Selfish

image

इस खुदगर्ज़ दुनिया में थोडा ख़ुदगुर्ज तू भी हो जा।
वरना यह दुनिया तुझे ख़ुदी से जीने नहीं देगी।

$vivek@dwivedi$£

Advertisements

Shyari

image

जरुरी नहीं की जो दिखे. वो सच की ही एक मूरत हो।

मेने कइयो को अकेले में घुट घुट के मरते देखा है।।

गम

image

न जानू उस गम को वजह से जिसकी तेरी आँखे यू नम हुई 
पर मालूम इतना हे 
तेरे एक आँशु का कतरा ही काफी हे, 
मेरीआँखों को दरिया बनाने के लिए।।।

No comments

image

इश्क़ की तमना मुझको ,कोई प्यार करने वाला तो मिले

मौत का इरादा नहीं, पर जीने की वजह तो मिले।

Vivek Dwivedi

Meri virtual duniya

The Parque

image

जब जब इस जालिम दुनिया ने मुझे तन्हा किया

तब तब,  अपनी तन्हाइयो संग  मैने इक नयी दुनिया बसा ली।

जहाँ सिर्फ मै हूँ, मै हूँ और सिर्फ मै हूँ

जब मुस्कुराना चाहता हूँ,तो यादो का मुख मोड़ लेता हूँ

और जब मुरझाना चाहता हूँ, तो कल की सोच लेता हूँ

खुश हूँ या दुखी हूँ,नहीं जानता

पर तसल्ली इस बात की है,क़ि जहाँ हूँ, अकेला नहीं हूँ मै

मेरे संग मेरी रुस्वाईया,तन्हाईया,यादेँ सब है, नहीं हे तो बस तू,सिर्फ तू।

क्योंकि इक तू ही तो है जिसने मुझे ख़ुदग़र्ज़ बनाया

मेरे हर एमोशन्स (emotion) को smiley से समझाया

….तू ही तो हे जिसने व्यर्थ की बातो से मुझको उलझाया 

अरे!तू ही तो हे जिसने मुझे इस सच्ची दुनिया का सच्चा इन्शान बनाया।
image

ताब्दील्या बहुत हे आई तुझसे मिलने के बाद

पहले रोता था, अब मुस्कुराता हूँ, बिछड़ने के बाद

पहले जो था, सो था ,अब  चहेरे बदलता हूँ, हरेक से मिलने के…

View original post 26 more words

Difference in words and action.

The Parque

image

जबसे तेरी कथनी और करनी में फर्क दिखने लगा ।
तबसे तेरे अच्छे कामो में भी मुझको शक होने लगा ।
और नहीं जानता, यह तेरी गलती हे या मेरी
पर तेरी बातो का असर ,अब काम होने लगा ।।।।

View original post